जमीन संबंधित मांगो को लेकर दलित किसानो का आमरण अनशन...आठ पीडित होस्पीटल में भर्ती ....

- March 13, 2018
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृहराज्य गुजरात मे दलितो पर दिन प्रतिदिन अत्याचार बढते ही जा रहे है। सरकारी आंकडो के अनुसार जातिगत अत्याचारो में 20% की बढत हुई है। गीरसोमनाथ के उना में सामाजिक कार्यकर्ता केवलभाई राठोड के नेतृत्व में 52 दलित परीवार अपनी जमीन संबंधित मांगो को लेकर पिछले 6 दिनो से आमरण अनशन पर बैठे है।


अनशन पर बैठे किसानो की मांग है की, गैरकानुनी तरीके से शरतभंग की गई जमीन को रीग्रान्ट करके उनको अपनी जमीन का वास्तविक कब्जा दिया जाए। आंदोलनकारीयो ने प्रशासन से बताया की, अगर इनकी मांगे पुरी नहीं हुई तो आमरण अनशन के तहैत अपनी जान दे देंगें।

यह आंदोलन को समर्थन करने के लिए सामाजिक एकता और जागृति मिशन के सभी कार्यकर्ता, मेधवाल पंचायत के अध्यक्ष जशाभाई विजुंडा, उनाकांड के पीडित बालुभाई, आंकोलाली के पीडित पियुषभाई, बौद्धविहार के पीडित संजयभाई समेंत जातिगत अत्याचार के सभी पीडितो ने भी यह आंदोलन को समर्थन किया है।







आंदोलनकारीयो ने बताया की, जब तक इनकी मांगे पुरी नहीं होती तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। किसानो ने बताया की, अन्याय और अत्याचार के खिलाफ आखरी सांस तक लडेंगें।


आमरण अनशन पर बैठे किसानो में से कुल आठ पीडित होस्पीटल में भर्ती कराए गए..!!


1) वीराभाई भोलाभाई सोंदरवा, आयु-47, गांव-मोठा

2) सामतभाई नथुभाई सोंदरवा, आयु-49, गांव-मोठा

3) अरजणभाई अमराभाई सोंदरवा, आयु-57, गांव-मोठा

4) अमराभाई नगाभाई सोंदरवा, आयु-50, गांव-मोठा

5) जशाभाई करशनभाई विंझुडा, आयु-49, गांव-चांचकवड

6) तेजाभाई टाभाभाई सरवैया, आयु-70, गांव-चांचकवड

7) मायांभाई माणंदभाई राठोठ, आयु-50, गांव-मोठा

8) रमेशभाई बालुभाई सरवैया, आयु-26, गांव-समढीयाला (उनाकांड के पीडित)