भ्रष्टाचार का विरोध करो, सरकारीतंत्र में सुधार करो..!!

- September 01, 2017
भ्रष्टाचार का मतलब होता है, भ्रष्ट आचरण. दूसरे शब्दों में वह काम जो गलत हो. भारत में भ्रष्टाचार चारों तरफ महामारी की तरह फैल गया है. सरकारी तन्त्र में यह ऊपर से नीचे तक फैल चुका है. जबकि निजी स्वामित्व वाले क्षेत्र भी भ्रष्टाचार से अछूते नहीं रह गए हैं।


गुजरात मे कई सेल्फ-फाइनान्स स्कुल व कोलेजो मे स्टुडन्ट से गैरकानुनी तरीको से युनिवर्सीटी मान्य फी से ज्यादा पैसे वसुल किए जाते है।


खानगीकरण की वजह से अस्तित्व मे आई सेल्फ-फाइनानस स्कुल व कोलेजो मे उनके मुडीवादी संचालको द्वारा गैरकानुनी पैसे वसुले जाते है।


सौराष्ट्र युनिवर्सीटी, नरसिंह महेता युनिवर्सीटी, गुजरात युनिवर्सीटी, गुजरात टेकनिकल बोर्ड, गुजरात टेक्नोलोजी युनिवर्सीटी, इंडीयन नर्सींग काउंसील समेत कई शिक्षण संस्थाओ द्वारा मान्य ट्रस्ट संचालित कई सेल्फ-फाइनान्स स्कुल व कोलेजो मे अनुसुचित जाति व अनुसुचित जनजाति के गरीब छात्रो से फी-शीप कार्ड होने के बावजुद भी गैरकानुनी तरीके से ज्यादा फी लेने का कौभांड चल रहा था।


गुजरात मे ज्यादातर सेल्फ-फाइनान्स स्कुल और कोलेज के ट्रस्टी व संचालक राजनीती से जुडे विधायक, सांसद या मंत्री है, राजनीति से जुडे ट्रस्टी व संचालक के खिलाफ शिकायत करने से लोग डरते है।


जब यह पिडीत छात्रो की शिकायत हम तक पहुंची तो हमारी टीम ने संबंधित संस्थाओ की मुलाकात करके वहां पर चल रही गैरकानुनी प्रवृतिओ का जायजा लिया एवं यह सारी धटनाओ का अध्ययन करके भ्रष्टाचार प्रबंधक संस्था के नियामक, शिक्षामंत्री, मुख्यमंत्री व राज्यपाल को लिखीत शिकायत की है।


गुजरात के सभी छात्रो से नम्र अपील है की आप जो भी फी भरे उनकी सही रसीद ले एवं अगर कोई स्कुल/कोलेज रसीद देने से इन्कार करे या सरकार मान्य फी से ज्यादा फी वसुल करे तो हमे संपर्क करे, हमारे साथी आपकी पुरी मदद करेंगे।


भ्रष्टाचार से मुक्त होने के लिए यह जरुरी है कि प्रयेक व्यक्ति का ईमान जागे. शिक्षा में नैतिकता का होना जरूरी है, इसके बिना भ्रष्टाचार कभी खत्म नहीं हो सकता है. परंतु आज की शिक्षा व्यवस्था से नैतिकता गायब हो रही है और जहाँ शैक्षणिक संस्थानों को विद्यार्थियों को व्यवसायिक शिक्षा देनी चाहिए, लेकिन उन्होंने शिक्षा का हीं व्यवसायिकरण कर दिया है. आज की शिक्षा व्यवस्था ऐसी है, जो लोगों को दीन हीन बना रही है।


भ्रष्टाचार पर आपत्ति उठाना युवा वर्ग का कर्तव्य है, शिक्षा मे हो रहे भ्रष्टाचार व गैरकानुनी प्रवृतिओ को हम बंद करके ही रहेंगे।


यह लडाई भारत के भाग्य को बदलने की लडाई है, यह लडाई भ्रस्टाचार व शोषण को खत्म करने की लडाई है।



आपके मिशनसाथी ;


▪केवलसिंह राठोड


▪सतिशकुमार राठोड
+917383737773

▪रमेशभाई सोसा
+918140654610

▪संजयभाई सोंदरवा
+919904114985

▪सागरकुमार बाबरीया
+917284906933

▪विपुलभाई सरवैया
+919624746456

▪कुलदीपभाई उनेवाल
+918268960260

▪किरणभाई परमार
+919714385871

▪कपीलभाई चौहान
+917698294471



हमे बदलाव चाहीए और हम बदलाव लेकर रहेंगे..!!



जय भारत..