हिंदु महासभा अपनी नौटंकी बंध करे और भारतीय संविधान का पालन करे..

- December 02, 2016
26 जनवरी 1950 को भारत की संविधान सभा ने संविधान के माध्यम से देश के सभी लोगो को मौलिक अधिकार के रुप मे उनके हक्क एवं अधिकार देकर सही माइने मे आजाद कीया, संविधान निर्माताओने संविधान के भाग 3 मे अनुच्छेद 14 से लेकर 32 तक नागरीको के मौलिक अधिकार एवं उनकी रक्षा संबंधित प्रबंध कीया है.

संविधान मे सभी लोगो के लिये बिना कीसी भेदभाव के समान हक्क एवं अधिकारो की व्यवस्था की गइ जिनकी बदौलत मनुवादी व्यवस्था के तहेत हज्जारो साल से  गुलामी की जिंदगी बसर करने वाले गरीब, पिछडे एवं महिलाओ के साथ साथ करोडो दबे कुचले लोगो को भी उनके अधिकार मिले.

भारतीय संविधान, दुनिया का सबसे बडा लीखित एवं बहेतरीन संविधान है जिनकी बदौलत भारत दुनिया का सबसे बडा लोकतंत्र होने का गर्व कर सकता है.

लेकिन बडे दुःख के साथ बताना पडता है की आरएसएस, वीएचपी एवं हिन्दु महासभा जैसे जातिवादी संगठन संविधान का पालन न करते हुये मनुवादी विचारधारा के तहेत देश के महान संविधान को अपमानित करके देश मे ब्राह्मणवाद कायम करने की नाकाम कोशीश कर रहे है.

बाबरीध्वंस, उनाकांड, धरवापसी, चार बच्चे पैदा करो, मीट बीफ बैन, लव-जिहाद जैसे मनुवादी एजेंडे को लेकर इन जातिवादीयो ने देश भर मे चारो ओर अराजकता फैला रखी है.

अभी अभी युपीएससी टोपर टीना डाबी एवं सेकन्ड रेन्कर अतहर आमिर खान की शादी को लेकर इन ब्राह्मणवादीयो ने लव-जिहाद के नाम पर ये दोनो के परीवार को परेशान करने की नाकाम कोशीश की है, जिसमे अखील भारतीय हिन्दु महासभा के राष्ट्रीय सचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने चिठ्ठी के माध्यम टीना के परीवार को अतहर की धरवापसी को लेकर एवं शादी रोकने के बारे में लिखकर अपनी ब्राह्मणवादी सोच को उजागर किया है.

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 के अनुसार देश के सभी नागरीको को जीवन रक्षा एवं व्यक्तिगत आजादी का मौलिक अधिकार मिला हुवा है, जिनके मुताबिक कोइ भी व्यक्ति कीसी की व्यक्तिगत आजादी छीन नहि सकता और यहांतक की ये अधिकार आपातकाल मे भी सुरक्षित रहता है.

टीना डाबी जो की दिल्ली मे रहती है और अनुसुचित जाति से संबंधित है, बाबासाहब आंबेडकर द्वारा भारतीय संविधान मे दिये गये हक्क एवं अधिकारो की वजह से आज आईएएस बन पाई है.


उसे अपनी निजी जिंदगी अपनी पसंद से जिने का पुरा हक्क है, वो अपने फेंसले खुद ले सकती है जिसमे उसे अखिल भारतीय हिन्दु महासभा या कीसी और ब्राह्मणवादी संगठन के सर्टिफिकेट की जरुरत नहि है.

टीना एवं अतहर को हमारा पुरा समर्थन है और साथ मे ब्राह्मणवादीयो से भी कहेना है की अपनी जातिवादी सोच अपने पास रखो और संविधान का सम्मान करो क्योंकी अब देश जाग उठा है तुम्हारे ब्राह्मणवाद के जाल मे फंसने वाला नहि हैं.


आपका मिशनसाथी
- केवलसिंह राठोड
   उना, गुजरात.