आज जुनागढ के सांढा गांव के दलित युवक की उना के पीड़ितों के साथ 2000 से ज्यादा लोगो ने श्रद्धांजली कार्यक्रम में  श्रद्धांजलि अर्पित की 

- October 23, 2016
जुनागढ--गुजरात के जुनागढ के सांढा गाँव मे कई साल पहले गाँव की सरकारी जमीन पड़ी हुई थी लेकिन जब दलितों ने उस जमीन पर खेती करने की माँग रखी तो गाँव के सरपंच और गांव के आगेवानो ने उस सरकारी जमीन को चराई भूमि बनाकर गाँव के दलितों की माँग को टाल दिया ।
ईस के विरुद्ध मैं सांढा गाँव के दलित समाज के लोगों ने ता :- 13/10/2016 के दीन जुनागढ जिला कलेक्टर को आवेदन दिया था और कचहरी के सामने गांव पलायन करके जुनागढ कलेक्टर कचहरी के सामने धरना प्रदर्शन किया था। लेकिन कोई सरकार के द्वारा आश्वासन नहीं दिया जाने पर प्रशासन से तंग आकर  परबतभाई पुन्जाभाई परमार के साथ दो और युवकों ने जहर पीकर आत्महत्या करने का प्रयास किया ।
इन तीन युवान मे से परबतभाई पुन्जाभाई परमार की हालत ज्यादा बीगड ने की वजह से  उसको राजकोट अस्पताल मे भरती कीया गया था। लेकिन उसकी सारवार के तहत  परबतभाई की मोत हो गई । बाद मे प्रशासन को दलित समाज का आक्रोश देखकर सरकार को जुकना पड़ा और दलित समाज की माँगे ता:-31/03/2017 तक पूरी करने का लिखीत मे वादा कीया।
पीड़ितों के परिवार ने बताया की अगर दी हुए समय तक हमे जमीन नहीं मीलती तो हम उग्र प्रदर्शन रैली नीकालेंगे।
सम्राट बौद्ध गुजरात